बवासीर के घरेलू उपचार bawaseer ke ghrelu upchar in hindi

बवासीर के घरेलू उपचार bawaseer ke ghrelu upchar in hindi

bawaseer gharelu upchar nuskhe
बवासीर
आज हम आपको बवासीर के कुछ घरेलू उपचारों के बारे में बताने वाले है। जिन्हें उपचारों को अपनाकर आप बवासीर जैसी घातक बीमारी से से मुक्ति पा सकते है। बवासीर से काफी लोगो को तकलीफ होती है जिसे वह किसी को बता भी नही पाते। इन उपचार को अपना कर आप बवासीर से मुक्ति पा सकते है।

बवासीर क्या होती है

बवासीर को तीन नामो से जाना जाता है पाइल्स, मूलव्याधि और बवासीर आदि। कई लोगो को नही पता होता है कि बवासीर क्या होती है। तो उन्हें बात दूँ कि बवासीर माल स्थान पर होने वाला रोग है। इसमे आपके माल त्याग की जगह में अंदर की तरफ एक फोड़ा, सूजन या फुंसी ही जाती है जो आपको माल त्याग में तकलीफ देती है।

बवासीर के प्रकार

बवासीर दो प्रकार की होती है खूनी बवासीर और बादी बवासीर।

खूनी बवासीर 

खूनी बवासीर में दर्द बिल्कुल नही होता है।लेकिन इसमें खून आता है। शुरुआत में थोड़ा - थोड़ा खून माल को लगकर आता है लेकिन जैसे - जैसे यह बढ़ती जाएगी। वैसे ही इसमें ज्यादा खून आने लगता है कि बार तो खून की पिचकारी तक आती है। बवासीर के लास्ट स्टेज में मांस का टुकड़ा तक बाहर आ जाता है जिसे अपने हाथों से अंदर करना पड़ता है।

बादी बवासीर

बॉडी बवासीर में माल त्याग के वक़्त दर्द होता है। इसमें बहु के बार माल के साथ खून लगकर आता है। ऐसा माल द्वार में हुए जख्म के कारण होता है।

बवासीर से बचने के घरेलू नुस्खे 

अगर हम कुछ सावधानियों को बरते, तो हम बवासीर से बच सकते है जैसे - माल त्याग करते समय ज्यादा जोर न लगना, माल द्वार को अच्छे से साफ करना और कब्ज न होने देना आदि। अगर फिर भी किसी को बवासीर है तो आप इन घरेलू नुस्खों का इतेमाल कर बवासीर से छुटकारा पा सकते है।
और पढ़े :- गिलोय के औषधीय गुण जानकार हैरान रह जाएंगे 

चलिये शुरू करते है बवासीर से बचने के घरेलू उपचार:- 

मूली

बवासीर को जड़ से खत्म करने में सबसे ज्यादा फायदा मूली से होता है। इसके लिए आपको मूली के सफेद वाले हिस्से को पीसकर उसका रस निकाल लेना है और दिन में 2 बार खाना खाने के आधे घंटे बाद इसका सेवन करना है 

जीरा

बवासीर में जीरे के सेवन से भी आराम मिलता है आप इसे कैसे भी ले सकते है। आप जीरा पाउडर को पानी मे मिलाकर दिन में कई बार इसका सेवन करे। जीरे पाउडर में पानी मिलाकर इसका पेस्ट बना ले और सूजन की जगह पर लगायें। इस करने से बवासीर के लक्षणों में कमी देखने को मिलती है।
और पढ़े :- अश्वगंधा के फायदे नुकसान और सेवन 

छाछ

छाछ की तासीर ठंडी होती है और यह कब्ज को तोड़ने व पेट की गर्मी और गैस को दूर करने में मदद करता है।

अंजीर

सूखे अंजीर को रात में गुनगुने पानी मे भिगो दें और सुबह सुबह खाली पेट इसका सेवन करें।

मुनक्का

इसके लिए रात भर आपको मुनक्का को पानी मे भिगोकर छोड़ दे और सुबह इसे तोड़कर इसके बीज को निकालकर मुनक्का को चबाकर खाएं और ऊपर से पानी पिये।इससे भी बवासीर में काफी फायदा मिलता है।
और पढ़े :- डेंगू से बचने के घरेलू नुस्खे 
                  कलयुग का अमृत अमरबेल 

नागदोन

बहोत से लोग इसे अपने घरों में एक Decoration plant के तौर पर लगाते है। लेकिन उन्हें लेकिन उन्हें ये नही पता होगा कि ये खूनी बवासीर के लक्षणों में आपको आराम पहुँचाता है। इसके लिए आपको नागदोन के चार पत्तो को चबाकर खाएं और पीछे से पानी पिएं। इस आपको सिर्फ 3-4 दिन करना है। बवासीर में अवश्य आराम मिलेगा।

दोस्तो बवासीर के बारे में लिखकर तो मुझे खुद अजीब लग रहा था। जिन लोगो को ये बीमारी होती होगी। वो लोग कैसे इस बीमारी को झेलते होंगे। भाइयो यही दुआ करूँगा की ये बीमारी किसी को भी न हो।

Helo friends  अगर आपको मेरा ये article अच्छा लगा हो, तो comment, share और subscribe जरूर करे। मुझे comment करके बताएं कि को से topic पर article लिखू। धन्यवाद 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां