(Nigella seeds) कलौंजी के फायदे और नुकसान

 कलौंजी के फायदे kalonji seeds & oil benefits

कलौंजी जिसके बारे में काफी कम लोग जानते है कि यह केवल खाने का स्वाद ही नही बढ़ाती, बल्कि इसके काफी औषधीय गुण भी है। कुछ ग्रंथि या किताबो में तो इसे मौत के सिवा हर मर्ज की दवा बताते है। कलौंजी के बीज दिखने में प्याज के बीजों जैसे होते है।

kalonji fayde nuksan
kalonji 

What is kalonji - कलौंजी क्या है ?

दरअसल कलौंजी एक झाडियां पौधा है इसके बीजों का उपयोग किया जाता है
 इसका वनस्पति नाम 'निजेला सैटाइवा' है। इसे अंग्रेजी में नटमेग फ्लावर, फेनेल फ्लॉवर के नाम से जाना जाता है। यह भारत के साथ-साथ दक्षिणी पश्चिमी एशियाई देशों और अफ्रिकाई देशो में उगाया जाता है। इसका पौधा 25-30 सेमी० लंबा होता है। इसकी लंबी व कई भागों में विभाजित पत्तियां होती है। इसका फल बड़ा व गोल यानि गेंद के आकार का होता है।

इसका प्रयोग औषाधि, सुंदरता पाने व मसाले तथा खुशबू के लिए पकवानों में सदियों से इस्तेमाल हित आ रहा है।

Benefits of Kalonji in Hindi - कलौंजी के फायदे

कलौंजी के बारे में आपको कई ग्रंथो में लेख मिलेंगे। जिन्हें पड़कर यही पता चलता है कि कलौंजी एक महान औषधि है। इसमें सभी लोगो से लड़ने की अपार शक्ति है।
कलौंजी में पोषक तत्वों का भंडार है इसमें omega 6, omega 3, omega 9, वसीय अम्ल, कार्बोहाइड्रेटस,प्रोटीन,वसा व 80 से भी ज्यादा पोषक तत्व पाए जाते है।

चलिए शुरू करते है कलौंजी के फायदे

1.) कैंसर के उपचार में सहायक

कलौंजी में थाइमोक्विनोन इंटरफेरॉन पाया जाता है जो कैंसर रोधी होता है यह कैंसर को कम करने के साथ-साथ उसे नष्ट भी करता है। और इसके पुनः उपयोग से आने वाले समय में कैंसर होने भी बचाता है। यह कैंसर पैदा करने वाली कोशिकाओं को जड़ से मिटाता है और एन्टी बॉडीज की संख्या को भी बढ़ता है।

2.) रोग प्रतिरोधक क्षमता

हमारे शरीर मे लाखो तरह के कीटाणु मौजूद है जिनमे कुछ positive व कुछ Negetive भी होते है जो हमे बीमार कर सकते है यह हमारे शरीर को नुकसान पहुचाने वाले किटाणुओ को खत्म करने में सहायक होता है जिससे हम लंबे समय तक बीमार नही होते।

3.) आंखों के लिए फायदेमंद

कलौंजी आपकी आंखों के लिए भी फायदेमंद है इसके लगातार सेवन से अनकही पर सालो से लगा चश्मा भी उतर सकता है। इसके लगातार सेवन से आंखों के चश्मे का नंबर धीरे-धीरे काम होने लगता है व कुछ समय के बाद उसके उतरने की संभावना बहु बढ़ जाती है।
प्रयोग की विधि - 1 गिलास गाजर के रस में एक चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सेवन करे।

4.) पथरी के लिए

यह आपके गुर्दे की पथरी के लिए भी फायदेमंद होता है। जिसकी मदद से आप अपने दर्द से राहत पा सकते है।

प्रयोग की विधि - गुर्दे की पथरी और मूत्राशय की जलन के लिए 5 ग्राम कलौंजी के तेल को सुबह नाश्ते से आधा घंटा पहले लेना है।

5.) दमा, नजला और खांसी में फायदेमंद

खांसी और दम होने पर कलौंजी के तेल को साइन और कमर पर लगाये व आधा चम्मच गर्म पानी से सेवन करे।

6.) बुखार में कलौंजी के फायदे

बुखार होने पर कलौंजी के तेल और अदरक की कुछ बूंदे गर्म पानी व गर्म दूध में मिलाकर पीने से बुखार से राहत मिलती है।

7.) जोड़ो के दर्द में कलौंजी के फायदे

कमर दर्द, बदन दर्द, जोड़ो के दर्द में कलौंजी के तेल को हल्का गर्म करके दर्द की जगह पर मालिश करने से आराम मिलता है।

8.) नींद के लिए कलौंजी के फायदे

अच्छी नींद के लिए आधा चम्मच कलौंजी के तेल को गर्म दूध में मिलाकर सोते समय सेवन करे।

9.) बालो का झड़ना

बालो का झड़ना (गिरना) और वक़्त से पहले सफेद होना व रूसी होने पर कलौंजी के तेल में मेथी के तेल, अरंडी का तेल और नारियल का तेल मिलाकर मालिश करने से बालों से जुड़ी सभी परेशानियों से मुक्ति मिलती है।
यह वक़्त से पहले सफेद हुए बालों, रूसी, बालो का झड़ने का रामबाण नुस्खा है।

10.) मोटापा कम करने में सहायक

मोटापा होने पर आधा चम्मच कलौंजी के तेल में 2 चम्मच शहद मिलाकर एक कप हल्के गर्म पानी के साथ दिन में दो बार सुबह निहार मुह व शाम को सोते वक्त पिलायें।

11.) याददाश्त में सुधार

याददाश्त की कमजोरी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल व 100 ग्राम पुदीने के उबले पानी के साथ मिलाकर इस्तेमाल करे।

12.) पेट संबन्धित रोग

अजीर्ण, उल्टी तेजबियात, पेट रोग में आधा चम्मच कलौंजी के तेल आधा चम्मच अदरक के रास में मिलाकर दिन में दो बार लेना है।

13.) बवासीर में फायदेमंद

बवासीर की शिकायत खून का बहना, मेंदा और आंतों में अल्सर आधा चम्मच कलौंजी का तेल एक कप काली चाय में सुबह शाम पिलाये बादी चीज़े न खाए।

14.) मधुमेह में कलौंजी के फायदे

मधुमेह (डायबटीज़) में एक कप काली चाय में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में दो बारे पिलाना है। सभी चिकनी चीज़ों का परहेज करें।

15.) गुप्त रोग

ल्युकोरिया व महिलाओं के गुप्त रोगों में एक ग्राम सूखे पुदीने के पत्ते दो गिलास पानी मे खूब पकाये, जब तक वह सूखकर एक गिलास न रह जाये। फिर उसे छानकर उसमे आधा चम्मच कलौंजी तेल मिलाकर निहार मुह सुबह शाम लेना है।

16.) सुन्दर त्वचा

मुहासे, झाइयों, खूबसूरत रंग रूप और दिलकश चेहरे के लिए आधा चम्मच कलौंजी के तेल में जैतून का तेल और बादाम का तेल मिलाकर चेहरे पर रात को मले।

17.) दिल की बीमारी में कलौंजी के फायदे

दिल की बीमारी, खून की नली की तंगी, खून का दबाव, दिल का दौरा आदि में आधा चम्मच कलौंजी का तेल गरम दूध में मिलाकर दिन में एक बार सुबह के वक़्त सेवन करे।

कलौंजी के नुकसान ( Side effect of kalonji)

आमतौर पर किसी भी चीज़ का हद से ज्यादा सेवन करने पर हमें उसके दुष्प्रभावो का सामना करना पड़ता है। लेकिन आप कलौंजी के बीजों का लंबे समय तक सेवन न करे। इससे आपका खून पतला होने लगता है और चोट लगने पर व कोई दुर्घटना होने पर खून को रोकना मुश्किल हो जाता है। लेकिन आप इसके तेल का उपयोग कर सकते है।


Post a comment

0 Comments